Smart Working And Living In The `Now’

A wood cutter believed best day results are obtained by working hard; so he worked hard every . The first day he cut ten trees; the second day nine trees but the third day he could cut only eight trees.At the end of the week, he could cut hardly one tree despite the same six hours of hard work. Perplexed, he approached a wise man and asked him the reason.

The wise man replied, “More than hard work, what is crucial is smart working. Have you sharpened the saw?“ You have to learn to work smart, more than work hard. The brain, for ages, has been programmed wrongly; it has positioned the future to be your saviour. Hence, people think and believe, “If I get million dollars, I will become happy; if I get married, I will become happy .“

So your saviour seems to be in the future. This is the error the brain has done. The description of time is past, present and future. But the truth of time is present. Past was present, future will be present. Hence, the truth of time is present. If you do not know how to be happy now, you can never be happy. If the brain says, I will be happy in the future it is silently telling I am unhappy `now’. With such programming, when it gets the object of desire, it is experienced in the `present’ when the present has been programmed as `I am unhappy now’. So, despite getting what you want, you are unhappy .

You have to learn to be happy now in the present; and out of happiness, you have to get the object of desire and not `for happiness’. This is smart living. You have to bring in the power of `being’ and not get lost to the power of `becoming’. The power of `being’ is, I am happy `now’ and the power of `becoming’ is, I will become happy if I get this or that. How can there be growth, if there is no drive of `becoming’?

You have to look deeply into your life. The `becoming’ which appears to have brought a lot of growth in the form of development ­ has it given fulfilment? Despite achievements, there is no fulfilment. All growth is oriented towards fulfilment. When you position happiness in the future, there will be no fulfilment. So `becoming’ has not really given what is needed ­- fulfilment. Be happy now and out of joy, go about getting what you want. Get not for joy but out of joy.

Then, your work is going to be fun, your life is going to be a joy. For joy is in the `here and now’ and not in the future. The `will of wish’ makes you live for fantasy , but the `will of comprehension’ makes you see the fullness of the here and now.

Do understand that wishing to be happy in the future is different from `willing to comprehend the now’ what the `now’ is. Once this change happens, then life is always in the now. The future will happen, when it happens, it happens in the now. So the `will of comprehension’ transforms the mind. The brain, as one uses it, is creating a fantasy in the future but no fulfilment, but the moment you transform joy in the `here and now’, then the brain uses `the will of comprehension’. An appreciable revolution happens to the brain. This is smart living.

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

सत्संग

वास्तवमें अन्नादि वस्तुओंकी कमी तभी आ सकती है, जब मनुष्य काम न करें और भोगी, ऐयाश, आरामतलब हो जायँ । आवश्यकता ही आविष्कारकी जननी है । अतः जब जनसंख्या बढ़ेगी, तब उसके पालन-पोषणके साधन भी बढ़ेंगे, अन्नकी पैदावार भी बढ़ेगी, वस्तुओंका उत्पादन भी बढ़ेगा, उद्योग भी बढ़ेंगे । जहाँतक हमें ज्ञात हुआ है, पृथ्वीमें कुल सत्तर प्रतिशत खेतीकी जमीन है, जिसमें केवल दस प्रतिशत भागमें ही खेती हो रही है, जिसका कारण खेती करनेवालोंकी कमी है ! अतः जनसँख्याकी वृद्धि होनेपर अन्नकी कमीका प्रश्न ही पैदा नहीं होता । यदि भूतकालको देखें तो पता लगता है कि जनसंख्यामें जितनी वृद्धि हुई है, उससे कहीं अधिक अन्नके उत्पादनमें वृद्धि हुई है । इसलिये जे॰ डी॰ बर्नेल आदि विशेषज्ञोंका कहना है कि जनसंख्यामें वृद्धि होनेपर भी आगामी सौ वर्षोंतक अन्नकी कमीकी कोई सम्भावना मौजूद नहीं है । प्रसिद्ध अर्थशास्त्री कोलिन क्लार्कने तो यहाँतक कहा है कि ‘अगर खेतीकी जमीनका ठीक-ठीक उपयोग किया जाय तो वर्तमान जनसंख्यासे दस गुनी ज्यादा जनसंख्या बढ़नेपर भी अन्नकी कोई समस्या पैदा नहीं होगी’ (पापुलेशन ग्रोथ एण्ड लिविंग स्टैण्डर्ड) ।

सन् १८८० में जर्मनीमें जीवन-निर्वाहके साधनोंकी बहुत कमी थी, पर उसके बाद चौंतीस वर्षोंके भीतर जब जर्मनीकी जनसंख्या बहुत बढ़ गयी, तब जीवन-निर्वाहके साधन और कम होनेकी अपेक्षा इतने अधिक बढ़ गये कि उसको काम करनेके लिये बाहरसे आदमी बुलाने पड़े ! इंग्लैंडकी जनसंख्यामें तीव्रगतिसे वृद्धि होनेपर भी वहाँ जीवन-निर्वाहके साधनोंमें कोई कमी नहीं आयी । यह प्रत्यक्ष बात है कि संसारमें कुल जनसंख्या जितनी बढ़ी है, उससे कहीं अधिक जीवन-निर्वाहके साधन बढ़े हैं ।

परिवार-नियोजनके समर्थनमें एक बात यह भी कही जाती है कि जनसंख्या बढ़नेपर लोगोंको रहनेके लिये जगह मिलनी कठिन हो जायगी । विचार करें, यह सृष्टि करोड़ों-अरबों वषोंसे चली आ रही है, पर कभी किसीने यह नहीं देखा, पढ़ा या सुना होगा कि किसी समय जनसंख्या बढ़नेसे लोगोंको पृथ्वीपर रहनेकी जगह नहीं मिली ! जनसंख्याको नियन्त्रित रखना और उसके जीवन-निर्वाहका प्रबन्ध करना मनुष्यके हाथमें नहीं है, प्रत्युत सृष्टिकी रचना करनेवाले भगवान्‌के हाथमें है । भगवान् कहते हैं‒
गामाविश्य च भूतानि धारयाम्यहमोजसा ।
(गीता १५ । १३)
‘मैं ही पृथ्वीमें प्रविष्ट होकर अपनी शक्तिसे समस्त प्राणियोंको धारण करता हूँ ।’
यो लोकत्रयमाविश्य बिभर्त्यव्यय ईश्वरः ॥
(गीता १५ । १७)
‘वह अविनाशी ईश्वर तीनों लोकोंमें प्रविष्ट होकर सबका भरण-पोषण करता है ।’

=======================

सत्संग मिल जाय तो समझना चाहिये कि हमारा उद्धार करनेकी भगवान्‌के मनमें विशेषतासे आ गयी; नहीं तो सत्संग क्यों दिया ? हम तो ऐसे ही जन्मते-मरते रहते, यह अडंगा क्यों लगाया ? यह तो कल्याण करनेके लिये लगाया है । जिसे सत्संग मिल गया तो उसे यह समझना चाहिये कि भगवान्‌ने उसे निमन्त्रण दे दिया कि आ जाओ । ठाकुरजी बुलाते हैं, अपने तो प्रेमसे सत्संग करो, भजन-स्मरण करो, जप करो । सत्संग करनेमें सब स्वतन्त्र हैं । सत्‌ परमात्मा सब जगह मौजूद है । वह परमात्मा मेरा है और मैं उसका हूँ‒ऐसा मानकर सत्संग करे तो वह निहाल हो जाय ।

सत्संग कल्पद्रुम है । सत्संग अनन्त जन्मोंके पापोंको नष्ट-भ्रष्ट कर देता है । जहाँ सत्‌की तरफ गया कि असत्‌ नष्ट हुआ । असत्‌ तो बेचारा नष्ट ही होता है । जीवित रहता ही नहीं । इसने पकड़ लिया असत्‌को । अगर यह सत्‌की तरफ जायगा तो असत्‌ तो खत्म होगा ही । सत्संग अज्ञानरूपी अन्धकारको दूर कर देता है । महान्‌ परमानन्द-पदवीको दे देता है । यह परमानन्द-पदवी दान करता है । कितनी विलक्षण बात है ! सत्संग क्या नहीं करता ? सत्संग सब कुछ करता है । ‘प्रसूते सद्‌बुद्धिम् ।’ सत्संग श्रेष्ठ बुद्धि पैदा करता है । बुद्धि शुद्ध हो जाती है । गोस्वामीजी महाराज लिखते हैं‒
मज्जन फल पखिय ततकाला ।
काक होहिं पिक बकउ मराला ॥ (मानस १/२/१)

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

Attitude Is Everything

I can’t overstate the importance of being able to maintain a positive attitude, but I’m the first one to admit that it’s not easy.

Wait to Worry

I used to worry. A lot. The more I fretted, the more proficient I became at it. Anxiety begets anxiety. I even worried that I worried too much! Ulcers might develop. My health could fail. My finances could deplete to pay the hospital bills.

A comedian once said, “I tried to drown my worries with gin, but my worries are equipped with flotation devices.” While not a drinker, I certainly could identify! My worries could swim, jump and pole vault!

To get some perspective, I visited a well known Dallas businessman, Fred Smith. Fred listened as I poured out my concerns and then said, “Vicki, you need to learn to wait to worry.”

As the words sank in, I asked Fred if he ever spent time fretting. (I was quite certain he wouldn’t admit it if he did. He was pretty full of testosterone–even at age 90.) To my surprise, he confessed that in years gone by he had been a top-notch worrier!

“I decided that I would wait to worry!” he explained. “I decided that I’d wait until I actually had a reason to worry–something that was happening, not just something that might happen–before I worried.”

“When I’m tempted to get alarmed,” he confided, “I tell myself, ‘Fred, you’ve got to wait to worry! Until you know differently, don’t worry.’ And I don’t. Waiting to worry helps me develop the habit of not worrying and that helps me not be tempted to worry.”

Fred possessed a quick mind and a gift for gab. As such, he became a captivating public speaker. “I frequently ask audiences what they were worried about this time last year. I get a lot of laughs,” he said, “because most people can’t remember. Then I ask if they have a current worry–you see nods from everybody. Then I remind them that the average worrier is 92% inefficient–only 8% of what we worry about ever comes true.”

Charles Spurgeon said it best. “Anxiety does not empty tomorrow of its sorrow, but only empties today of its strength.”

Most of us want to be positive. It’s advantageous to possess a sunny outlook. Doors open to optimists. They make friends, earn respect, close sales, produce loyal clients, and others enjoy and want to be like them. The question is, how can we do that consistently?

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

Finish Strong

Amazing Stories of Courage and Inspiration

You may find yourself at the end of the work day with one more thing that needs to get done. Do you leave it? Or do you choose to finish strong and complete the job? You may find yourself exhausted from the day and putting your children to bed. Do you skip their bedtime story or do you finish strong and complete your nightly tradition? At the end of the day, when you climb into bed, regardless of what happened during the day, when you choose to finish strong, you will rest easily knowing that you did everything you could to make the day its best.

Finish Strong – to me, two words that more clearly define a call to action than any other two words in the English language. I challenge you to find two words that more absolutely define a performance objective. The words “finish strong” are pervasively used in our culture, and they are a perfect example of how the whole is greater than the sum of the parts. When you combine “Finish” with “Strong” you create a powerful platform for action. It’s not uncommon for these words to flow from the mouths of athletes as they describe their goal in pre and post event interviews. The media uses these words to describe the performance of everything from the stock market to stock car racing. And lastly, for as long as man has documented history, the spirit of these words has existed.

The words Finish Strong have become a driving force in my life. For more than ten years, they have been my personal mantra for achieving excellence in – life, sport, and business. I have personally embraced the finish strong mindset in all aspects of my life. And, when faced with a challenge or adversity, I remind myself…

Regardless of what came before or of what has yet to come, what matters most right now is how I choose to respond to the challenge before me. Will I lie down or will I fight? The choice is mine and I choose to FINISH STRONG.

From this attitude, I have created a personal level of accountability for everything I do. I don’t always get the result I want. But in the times that I have had to lean on my commitment, I always felt a greater sense of accomplishment and satisfaction knowing that I gave it all I had.

There is not a single person in the world who cannot benefit from adopting the Finish Strong mindset.

Here’s a quote that drives the spirit of Finish Strong home: “To accomplish great things, we must not only act, but also dream; not only plan, but also believe.” —Anatole France

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

भगवान् सबके हैं और सबमें हैं

भगवान् सबके हैं और सबमें हैं, पर मनुष्य उनसे विमुख हो गया है । संसार रात-दिन नष्ट होता जा रहा है, फिर भी वह उसको अपना मानता है और समझता है कि मेरे को संसार मिल गया । भगवान् कभी बिछुड़ते हैं ही नहीं, पर उनके लिये कहता है कि वे हैं ही नहीं, मिलते हैं ही नहीं ; भगवान्से मिलना तो बहुत कठिन है, पर भगवान् तो सदा मिले हुए ही रहते हैं । भाई ! आप अपनी दृष्टि उधर डालते ही नहीं, उधर देखते ही नहीं । जहाँ-जहाँ आप देखते हो , वहाँ-वहाँ भगवान् मौजूद हैं । अगर यह बात स्वीकार कर लो, मान लो कि सब देश में, सब काल में, सब वस्तुओं में, सम्पूर्ण घटनाओं में, सम्पूर्ण परिस्थितियों में, सम्पूर्ण क्रियाओं में भगवान् हैं, तो भगवान् दीखने लग जायेंगे ।दृढ़तासे मानोगे तो दीखेंगे, संदेह होगा तो नहीं दीखेंगे । जितना मानोगे, उतना लाभ जरूर होगा । दृढ़ता से मान लो तो छिप ही नहीं सकते भगवान् ! क्योंकि‒

यो मां पश्यति सर्वत्र सर्वं च मयि पश्यति ।
तस्याहं न प्रणश्यामि स च मे न प्रणश्यति ॥
(गीता ६ । ३०)

‘जो सब में मेरे को देखता है और सब को मेरे अन्तर्गत देखता है, मैं उसके लिये अदृश्य नहीं होता और वह मेरे लिये अदृश्य नहीं होता ।’

जहाँ देखें, जब देखें, जिस देश में देखें, वहीं भगवान् हैं । परन्तु जहाँ राग-द्वेष होंगे, वहाँ भगवान् नहीं दीखेंगे ।भगवान् के दीखने में राग-द्वेष ही बाधक हैं । जहाँ अनुकूलता मान लेंगे, वहाँ राग हो जायगा और जहाँ प्रतिकूलता मान लेंगे, वहाँ द्वेष हो जायगा । एक आदमी की दो बेटियों थीं । दोनों बेटियाँ पास-पास गाँव में ब्याही गयी थीं । एक बेटी वालों का खेती का काम था और एक का कुम्हार का काम था । वह आदमी उस बेटी के यहाँ गया, जो खेतीका काम करती थी और उससे पूछा कि क्या ढंग है बेटी ? उसने कहा ‒ पिताजी ! अगर पाँच-सात दिनों में वर्षा नहीं हुई तो खेती सूख जायगी, कुछ नहीं होगा । अब वह दूसरी बेटीके यहाँ गया और उससे पूछा कि क्या ढंग है ? तो वह बोली ‒ पिताजी ! अगर पाँच-सात दिनों में वर्षा आ गयी तो कुछ नहीं होगा; क्यों कि मिट्टीके घड़े धूप में रखे हैं और कच्चे घड़ों पर यदि वर्षा हो जायगी तो सब मिट्टी हो जायगी ! अब आप लोग बतायें कि भगवान् वर्षा करें या न करें ! दोनों एक आदमी की बेटियों हैं । माता-पिता सदा बेटी का भला चाहते हैं । अब करें क्या ? एक ने वर्षा होना अनुकूल मान लिया और एक ने वर्षा होना प्रतिकूल मान लिया । एक ने वर्षा न होना अनुकूल मान लिया और एक ने वर्षा न होना प्रतिकूल मान लिया । उन्होंने वर्षा होने को ठीक – बेठीक मान लिया । परन्तु वर्षा न ठीक है न बेठीक है । वर्षा होने वाली होगी तो होगी ही । अगर कोई वर्षा होने को ठीक मानता है तो उसका वर्षा में ‘राग’ हो गया और वर्षा होने को ठीक नहीं मानता तो उसका वर्षा में ‘द्वेष’ हो गया । ऐसे ही यह संसार तो एक – सा है, पर इस में ठीक और बेठीक‒ये दो मान्यताएँ कर लीं तो फँस गये !

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

राग-द्वेषका त्याग-3

अच्छा और बुरा लगता है, ठीक और बेठीक लगता है‒यह राग-द्वेष है । इसके वशमें न होना क्या है ? इसको तमाशेकी तरह देखे कि क्या अच्छा है और क्या मन्दा है ! न सुख रहनेवाला है, न दुःख रहनेवाला है । न बीमारी रहनेवाली है, न स्वस्थता रहनेवाली है । कुछ भी रहनेवाला नहीं है । इन सबका वियोग होने वाला है । बहुत दिनों तक संयोग रहने पर भी एक दिन वियोग जरूर होगा‒‘अवश्यं यातारश्चिरतरमुषित्वाऽपि विषयाः ।’ अतः सज्जनो ! इस बातको पहलेसे ही समझ लो कि एक दिन इन सबका वियोग होगा । लड़का जन्मे, तभी यह समझ लेना चाहिये कि यह मरेगा जरूर ! यह बड़ा होगा कि नहीं होगा, पढ़ेगा कि नहीं पढ़ेगा, इसका विवाह होगा कि नहीं होगा, इसके लड़का-लड़की होंगे कि नहीं‒इसमें सन्देह है; परन्तु यह मरेगा कि नहीं मरेगा‒इसमें कोई सन्देह है क्या ? जन्म हुआ है तो खास काम मरना ही है, और कोई खास काम नहीं है । अब इसमें राजी और नाराज क्या हों । अपने तो मौजसे भगवान्की तरफ चलते रहें । जो वैराग्यवान् होते हैं, विवेकी होते हैं, भगवान्के प्रेमी भक्त होते हैं, वे इन आने-जानेवाले पदार्थोंकी तरफ दृष्टि रखते ही नहीं । वे करने में सावधान और होने में सदा प्रसन्न रहते हैं ।

रज्जब रोवे कौन को, हँसे सो कौन विचार ।
गये सो आवन के नहीं रहे सो जावनहार ॥

सब जानेवाला है, मरनेवाला है तो क्या हँसें ! जो मर चुके, उनको कितना ही रोयें, वे आनेके हैं नहीं तो क्या रोयें ! यह विचार स्थायी कर लो । फिर राग-द्वेष मिट जायँगे ।

राग-द्वेषको सह लो अर्थात् प्रियकी प्राप्ति होनेपर हर्षित न हों और अप्रियकी प्राप्ति होनेपर उद्विग्न न हों । फिर आप जन्म-मरणसे रहित हो जाओगे । सन्तोंने कहा है‒‘अब हम अमर भये न मरेंगे ।’ अब क्यों मरेंगे ? मरनेवाले तो ये राग-द्वेष ही हैं । इन दोनोंको नाशवान् और पतन करनेवाले समझो । चाहे तो ऐसा समझकर इनसे अलग हो जाओ, नहीं तो भगवान्को पुकारो कि ‘हे नाथ ! हे नाथ !! रक्षा करो !’जैसे, मोटर खराब हो जाय तो खुद ठीक कर लो । खुद ठीक न कर सको तो कारखाने में भेज दो ! ऐसे ही राग-द्वेषसे अलग न हो सको तो भगवान्की शरणमें चले जाओ । भगवान्ने गीताके अन्तमें कहा कि ‘तू मेरी शरणमें आ जा’‘मामेकं शरणं व्रज’ (गीता १८ । ६६) ।

एक ब्राह्मण देवताकी कन्या बड़ी हो गयी । उसने एक धर्मात्मा सेठके पास जाकर कहा‒‘सेठजी ! कन्या बड़ी हो गयी, क्या करूँ ?’ सेठने कहा‒‘आप वर ढूँढ़ो, तैयारी करो, चिन्ता क्यों करते हो ?’ इसका अर्थ यह नहीं है कि सेठ ही आकर वर ढूँढ़ेंगे, विवाह करायेंगे, प्रत्युत इसका अर्थ है कि चिन्ता मत करो; धन हम दे देंगे, काम तुम करो । इसी तरह भगवान् कहते हैं कि ‘तुम अपना काम करो, चिन्ता मत करो । तुम्हें जो अभाव होगा, उसे मैं पूरा करूँगा ।’

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

राग-द्वेषका त्याग-2

जैसे दूसरे शरीरों की बेपरवाह करते हो, ऐसे ही इस शरीर की भी बेपरवाह करो अथवा जैसे इस शरीर की परवाह करते हो, ऐसे ही जो सामने आये, उसकी भी परवाह करो । जैसे इस शरीर की पीड़ा नहीं सही जाती, ऐसे ही दूसरे शरीरों की पीड़ा भी न सही जाय तो काम ठीक बैठ जायगा ।

यह बात अच्छी है और यह बुरी है‒यह राग और द्वेष है । जहाँ मन खिंचता है, वहाँ राग है और जहाँ मन फेंकता है,वहाँ द्वेष है । ये राग-द्वेष ही पारमार्थिक मार्ग में लुटेरे हैं‒ ‘तौ ह्यस्य परिपन्धिनौ’ (गीता ३ । ३४) । ये आपकी साधन-सम्पत्ति लूट लेंगे, आपको आगे नहीं बढ़ने देंगे । अतः क्या अच्छा और क्या मन्दा ? क्या सुख और क्या दुःख ? मनस्वी पुरुष सुख-दुःखको नहीं देखते‒‘मनस्वी कार्यार्थी न गणयति दुःखं न च सुखम्’ (नीतिशतक ८२) । वे तो उसको देखते हैं, जो सुख-दुःखसे अतीत है, जहाँ आनन्द-ही-आनन्द है, मौज-ही-मौज है, मस्ती-ही-मस्ती है ! जिसके समान कोई आनन्द हुआ नहीं, हो सकता नहीं, सम्भव ही नहीं, वह आनन्द मनुष्य के सामने है । देवता, पशु, पक्षी, वृक्ष, राक्षस, असुर, भूत-प्रेत, पिशाच एवं नरक के जीवों के सामने वह आनन्द नहीं है । मनुष्य ही उस आनन्द का अधिकारी है । मनुष्य उस आनन्द को प्राप्त कर सकता है । परन्तु राग- द्वेष करोगे तो वह आनन्द मिलेगा नहीं । अतः आप राग- द्वेषके वशीभूत न हों‒

नहीं किसीसे दोस्ती, नहीं किसीसे वैर ।
नहीं किसी के सिरधणी, नहीं किसीकी बैर ॥

भाइयो ! बहनो ! आप थोड़ा ध्यान दें । सुख में भी आप वही रहते हैं और दुःखमें भी आप वही रहते हैं । यदि आप वही नहीं रहते तो सुख और दुःख ‒ इन दोनोंको अलग-अलग कौन जानता ? बहुत सीधी बात है । हमने भी पहले पढ़ा-सुना, साधारण दृष्टिसे देखा तो सुख-दुःखमें समान रहने में कठिनता मालूम दी । परन्तु विचारसे देखा कि सुख-दुःख तो आने-जाने वाले हैं‒‘आगमापायिनः’ (गीता २ । १४) और आप हो रहने वाले । हम यहाँ दरवाजे पर खड़े हो जायँ और इधर से मोटरें धनाधन आयें तो हम नाचने लगें कि मौज हो गयी, आज तो बहुत मोटरें आयीं ! दूसरे दिन एक भी मोटर नहीं आयी तो लगे रोने । रोते क्यों हो ? कि आज एक भी मोटर नहीं आयी ! तो धूल कम उड़ी, हर्ज क्या हुआ ? मोटर आये या न आये, तुम्हें इससे क्या मतलब ? ऐसे ही आपके सामने कई अनुकूलताएँ-प्रतिकूलताएँ आयीं, आपका आदर-निरादर हुआ, निन्दा-प्रशंसा हुई, वाह-वाह हुई, पर आप वही रहे कि नहीं ? सुख आया तो आप वही रहे, दुःख आया तो आप वही रहे । अतः आप एक ही हो‒‘समदुःखसुखः स्वस्थः’(गीता १४ । २४) । आप अपनेमें ही रहो, सुख-दुःखसे मिलो मत, फिर मौज-ही-मौज है ! ‘सदा दिवाली सन्तकी आठों पहर आनन्द ।’

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

Previous Older Entries

%d bloggers like this: