Health: Healthy Teeth and Gums-2

Health: Healthy Teeth and Gums-2

Pale Gums and Anaemia

Your mouth may be sore and pale if you’re anemic, and your tongue can become swollen and smooth (glossitis). When you have anaemia, your body doesn’t have enough red blood cells, or your red blood cells don’t contain enough haemoglobin. As a result, your body doesn’t get enough oxygen. There are different types of anaemia, and treatment varies. Talk to your doctor to find out what type you have and how to treat it.
Eating Disorders Erode Tooth Enamel

A dentist may be the first to notice signs of an eating disorder such as bulimia. The stomach acid from repeated vomiting can severely erode tooth enamel. Purging can also trigger swelling in the mouth, throat, and salivary glands as well as bad breath. Anorexia, bulimia, and other eating disorders can also cause serious nutritional shortfalls that can affect the health of your teeth.
Thrush and HIV

People with HIV or AIDS may develop oral thrush, oral warts, fever blisters, canker sores, and hairy leukoplakia, which are white or gray patches on the tongue or the inside of the cheek. The body’s weakened immune system and its inability to stave off infections are to blame. People with HIV/AIDS may also experience dry mouth, which increases the risk of tooth decay and can make chewing, eating, swallowing, or talking difficult.
Treating Gum Disease May Help RA

People with rheumatoid arthritis (RA) are eight times more likely to have gum disease than people without this autoimmune disease. Inflammation may be the common denominator between the two. Making matters worse: people with RA can have trouble brushing and flossing because of damage to finger joints. The good news is that treating existing gum inflammation and infection can also reduce joint pain and inflammation.
Tooth Loss and Kidney Disease

Adults without teeth may be more likely to have chronic kidney disease than those who still have teeth. Exactly how kidney disease and periodontal disease are linked is not 100% clear yet. But researchers suggest that chronic inflammation may be the common thread. So taking care of your teeth and gums may reduce your risk of developing chronic kidney problems.
Gum Disease and Premature Birth

If you’re pregnant and have gum disease, you could be more likely to have a baby that is born too early and too small. Exactly how the two conditions are linked remains poorly understood. Underlying inflammation or infections may be to blame. Pregnancy and its related hormonal changes also appear to worsen gum disease. Talk to your obstetrician or dentist to find out how to protect yourself and your baby.

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

Home Remedies To Control Blood Sugar Levels-2

6. Drink in Moderation
Alcohol contains huge amounts of sugar, and anyone trying to watch out for their blood sugar should definitely moderate the amount of alcohol they consume. It is best to occasionally drink wine with dinner, and not after dinner when the same glass of wine could alter insulin levels in the blood.

7. Watch Fat Intake
It is important to watch the amount of saturated fats entering the body because these can seriously increase the chances of contracting diabetes. Saturated fats are usually in fried and junk foods as they are cooked in unhealthy oils.

8. Exercise Daily
Getting in exercise each day is critical to maintaining normal blood sugar levels, even if it’s a brisk walk in the park.

9. Laughing
Yes, this is really one of the tips that will prevent your chances for diabetes. It was found that those who laugh have lower blood sugar levels than those who don’t laugh enough (this means you should keep reading our jokes!).

10. Eat Grapefruit
Grapefruit has been proved to aid in weight loss as it affects the glucose metabolism, keeping insulin levels steady.

11. Do Resistance Training
Building muscle mass is important for burning more glucose out of your system and training once to twice a week could significantly aid in preventing the occurrence of diabetes.

12. Drink Decaf, Not Regular coffee
Decaffeinated coffee slows down the rate at which the intestines absorb sugars and speeds up the absorption of sugar by the muscles.

13. Eat Smaller Meals
It is best to have a small meal every half hour and then another small meal (or a second half of the regular size meal) later on. In the same vein, it is also important to eat regularly so that insulin levels don’t spike.

14. Get Enough Sleep
Sleep deprivation can affect blood sugar and insulin levels so it is important to get enough sleep each night. It is also essential to stop snoring because according to some studies, those who snore are more likely to develop diabetes (because snoring is often tied to being overweight).

15. Learn Relaxation
Listen to soothing music or read an interesting book, whatever you need to do to relax. Meditation and yoga can also help if they are done properly and on a regular basis.

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

Home Remedies To Control Blood Sugar Levels-1

Home Remedies To Control Blood Sugar Levels-1

Diabetes is one of the leading concerns among health professionals today as more and more individuals fall prey to this life-long and dangerous disease. Diabetes is caused when the blood sugar levels rise to an excess and a resistance to insulin results. Once this happens, the diabetic individual can no longer control their blood sugar levels, and they can rise and fall with serious consequences. Yet whether you are diabetic or know someone diabetic or not, it is important to implement measures to control blood sugar levels and to stop the spread of the diabetes in its tracks.

1. Consume More Dairy Products dairy
The protein and fat in dairy products helps improve blood sugar levels, and if the products are low in fat, it has been shown that they can also decreased the chances for developing insulin resistance.

2. Choose the Right Kind of Bread
Avoid white flour based products at all costs! These simple carbohydrates are full of sugar that spike up your blood sugar. Instead, you should consume whole wheat or rye products that are high in fiber, protein and complex carbohydrates which control blood sugar levels and keep you full longer.

3. Maximize the Magnesium
Magnesium is a mineral known to help prevent the onset of Type II diabetes and should be consumed as much as possible. It is best to consume natural sources of magnesium such as spinach, fish, nuts, leafy greens and avocados. All of these foods have been proved to lower the risk of diabetes and can even aid in weight loss.

4. Cardamom is great!
Cardamom originates in the ginger family of spices and comes from Asia as well as South America. The spice is known to regulate Type II diabetes and can be sprinkled on coffee, tea, yogurt and even cereal. The spice is known to help decrease blood glucose levels by eighteen to thirty percent.

5. Buckwheatsoba
Buckwheat is an excellent source of fiber that you may never have heard of. It also does wonders for maintaining healthy blood sugar levels. Buckwheat comes in the form of soba noodles, which are a delicious substitute for rice or pasta as well as in a number of powders that can be added to baked goods or even on top of a slice of (whole wheat) bread.

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

Health: Healthy Teeth and Gums-1

What Healthy Gums Look Like

Healthy gums should look pink and firm, not red and swollen. To keep gums healthy, practice good oral hygiene. Brush your teeth at least twice a day, floss at least once a day, see your dentist regularly, and avoid smoking or chewing tobacco.

The research isn’t conclusive, but red, swollen, and bleeding gums may point to health problems from heart disease to diabetes. Sometimes, bacteria from your mouth can travel to your bloodstream, setting off an inflammatory reaction elsewhere in your body. Left untreated, gum disease can increase your risk for a host of diseases linked to inflammation. Certain diseases and medications also may cause mouth problems.

Can Mouth Bacteria Affect the Heart?

Some studies show that people with gum disease are more likely to suffer from heart disease than those with healthy, pink gums. Researchers aren’t sure why this association exists. One theory is that oral bacteria travel into the bloodstream where it may attach to fatty plaques in the arteries, causing inflammation and setting the stage for a heart attack. Are you are at risk? Talk to your doctor.

Gum Disease and Diabetes

Diabetes can reduce the body’s resistance to infection. Elevated blood sugars increase the risk of developing gum disease. What’s more, gum disease can make it harder to keep blood sugar levels in check. Protect your gums by keeping blood sugar levels as close to normal as possible. Brush after each meal and floss daily. See your dentist at least once a year.

Dry Mouth and Tongue Cause Tooth Decay

The 4 million Americans who have Sjögren’s syndrome are more prone to have oral health problems, too. With Sjögren’s, the body’s immune system mistakenly attacks tear ducts and saliva glands, leading to chronically dry eyes and dry mouth (called xerostomia). Saliva helps protect teeth and gums from bacteria that cause cavities and gingivitis. So a perpetually dry mouth is more susceptible to tooth decay and gum disease.

Medications That Cause Dry Mouth

Given that a chronically dry mouth raises risk of cavities and gum disease, you may want to check your medicine cabinet. Antihistamines, decongestants, painkillers, and antidepressants are among the drugs that can cause dry mouth. Talk to your doctor or dentist to find out if your medication regimen is affecting your oral health, and what you can do about it.

Stress and Teeth Grinding

If you are stressed, anxious, or depressed, you may be at higher risk for oral health problems. People under stress produce high levels of the hormone cortisol, which wreaks havoc on the gums and body. Stress also leads to poor oral care; more than 50% of people don’t brush or floss regularly when stressed. Other stress-related habits include smoking, drinking alcohol, and clenching and grinding teeth (called bruxism).

Osteoporosis and Tooth Loss

The brittle bone disease osteoporosis affects all the bones in your body — including your jaw bone — and can cause tooth loss. Bacteria from periodontitis, which is severe gum disease, can also break down the jaw bone. One kind of osteoporosis medication — bisphosphonates — may slightly increase the risk of a rare condition called osteonecrosis, which causes bone death of the jaw. Tell your dentist if you take bisphosphonates.

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

कैसे रावण की मृत्यु का कारण बनी ‘दासी मंथरा’?

रामायण और महाभारत की कहानियां

टीवी धारावाहिक देखने के बाद आजकल हर दूसरे इंसान के लिए ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ जैसी कहानियां काफी बदल गई हैं। यह दोनों कहानियां मूल रूप से तो वही हैं, और उसी प्रकार दिखाई जाती हैं लेकिन हर बार जैसे ही कोई नया टीवी धारावाहिक आरंभ होता है, हमें उसमें एक नया ही मोड़ दिखाई देता है।

कहानियों में बदलाव

आज तक शायद ही किसी ने यह जाना होगा कि सीता स्वयंवर में रावण भी आया था। क्योंकि महर्ष वाल्मीकि रचित रामायण में इसका कोई भी उल्लेख नहीं है। इसी तरह से आज आप टीवी पर जब महाभारत देखेंगे, तो आपको नई कहानियां मिलेंगी।

नई कहानियां आई हैं

उदाहरण के तौर पर टीवी के माध्यम से महाभारत की एक कहानी काफी प्रचलित हो रही है जिसके अनुसार पानी के तालाब को फर्श समझ उसमें गिर जाने के बाद द्रौपदी ने दुर्योधन का मज़ाक बनाया, और उसे अंधे का पुत्र बताया था। ऐसी कोई भी घटना असली महाभारत ग्रंथ में मौजूद नहीं है।

संस्करणों में हैं ये कहानियां

ये नई कहानियां कैसे जन्मीं और कहां से आईं, इसके जवाब में कई उप-ग्रंथ सामने आए हैं। कई लोग रामायण एवं महाभारत के विभिन्न ऐसे संस्करणों का दावा करते हैं, जिनमें कई ऐसी कहानियां हैं जिन्हें असली ग्रंथों में शामिल नहीं किया गया था। इसलिए आम लोग इन्हें नहीं जानते।

एक नया मोड़ लाई हैं

ये कहानियां रामायण एवं महाभारत के काल को एक नया मोड़ देती हैं, इस काल के उत्पन्न होने पर एक नया निष्कर्ष निकालती हैं और इनसे जुड़े पात्रों के बारे में कुछ अलग ही व्याख्या करती हैं।

श्रीराम का वनवास

रामायण काल में श्रीराम के वनवास जाने, पीछे से पिता राजा दशरथ की मृत्यु एवं अयोध्या के बुरे समय आने का भागीदार रानी कैकेयी को माना जाता है। रामायण काल में बुरा समय आरंभ होने का सारा जिम्मा ही रानी कैकेयी को दिया गया है, लेकिन यह पूर्ण सत्य नहीं है।

रानी कैकेयी को ठहराया जिम्मेदार

शोधकर्ताओं ने यह बयान दिया है कि रानी कैकेयी किसी भी बुरे कार्य में अकेली भागीदार नहीं थी, अपितु वे तो स्वयं पुत्र राम को ही अयोध्या के महाराज एक रूप में देखना चाहती थीं। लेकिन उन्हें भड़काने वाली थी उनकी कुबड़ी दासी मंथरा।

लेकिन मंत्र की थी साजिश

विवाहोपरांत कैकेयी के ही साथ अयोध्या आई कुबड़ी मंथरा हर पल कैकेयी के कान भरती रहती। अयोध्या के राजा दशरथ के खिलाफ भी उसे भड़काती रहती और सिर्फ और सिर्फ भरत ही अयोध्या का भावी राजा हो, ऐसा उसने कैकेयी के दिमाग में भर दिया था।

जो बानी रावण की मृत्यु का कारण

कैकेयी भी मंथरा को अपनी दासी कम और अपना शुभचिंतक अधिक मान, उसकी बातों में आ गई। और फिर आगे जो हुआ यह सभी को मालूम है। लेकिन एक और तर्क एक अनुसार मंथरा ना केवल श्रीराम के 14 वर्षों के वनवास भोगने का कारण बनी, बल्कि साथ ही वह ‘रावण की मृत्यु’ का कारण भी थी।

आश्चर्य की बात

जी हां… यह जान आपको आश्चर्य हो रहा होगा, लेकिन मंथरा को लंकापति रावण की मृत्यु का कारण माना जा रहा है। यह निष्कर्ष केवल कुछ तथ्यों को आधार बनाकर ही दिया गया है। जिसके अनुसार यदि मंथरा कैकेयी के साथ विवाहोपरान्त ना आती तो वह हमेशा केवल कैकेयी के हित की बात ना करती। वह स्वार्थी ना बनती और कैकेयी को कभी ना उकसाती कि कैकयी की कोख से जन्मा पुत्र ही अयोध्या का राजा बने।

स्वार्थ बन कारण

उसके स्वार्थ ने कैकयी के मन में भी स्वार्थपूर्ण विचारों को जगह दी। कैकयी अपने मातृत्व धर्म तथा राम के प्रति अपने स्नेह को भूलकर उस स्वार्थ के चक्रव्यूह में उलझ गई। इस स्वार्थ ने अयोध्या से उनका सर्वश्रेष्ठ राजा राम छीन लिया, एक पिता से अपना पुत्र दूर कर दिया और एक राजकुमार और उनकी पत्नी को वन में रहने के लिए मजबूर कर दिया।

एक अलग दृश्टिकोण

यहां से यह ज्ञात होता है कि शायद सारे गलती कैकेयी की ही थी, और उनके पीछे हाथ था मंथरा का जिसने अयोध्या का भाग्य बदलकर रख दिया। लेकिन इन सभी परिस्थितियों को यदि एक अन्य दृश्टिकोण से देखा जाए तो यह केवल अयोध्या के ही नहीं, बल्कि साथ ही रावण के भाग्य को भी बदलने की क्षमता रखती थी।

आरम्भ हुआ रावण का विनाश

यही से रावण के विनाश का अंकुर फूटता है। विश्व कल्याण हेतु भगवान राम वन गमन करते हैं तथा ऋषियों को राक्षसों के भय से मुक्त कर रावण का वध करते हैं।

माँ सरस्वती जी की आरती

यह तर्क कितने सत्य हैं इसका आशय हमें सरस्वती माता की आरती में से प्राप्त होता है। आरती की एक पंक्ति में मंथरा, रावण की मृत्यु से कैसे जुड़ी है, यह उल्लिखित है – “पैठि मन्थरा दासी रवण संहार किया। (कहीं कहीं असुर संहार भी प्रयोग किया जाता है) ओम् जय सरस्वती माता।।“

इसमें हैं उल्लेख

इस पंक्ति से यह ज्ञात होता है कि सरस्वती माता जो कि वाक शक्ति हैं ने मन्थरा दासी को वो स्वार्थ भरे शब्द उच्चारण के लिए प्रेरित किया जिसके चलते सारे घटनाक्रम के बाद रावण का संहार हुआ।

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

किस देवी-देवता की कितनी बार करें परिक्रमा, ताकि मिले मनोवांछित फल-2

कार्तिकेय तथा गणेश की परीक्षा

मां पार्वती की बात सुनकर कार्तिकेय तो झट से अपने मोर पर सवार होकर निकल गए ब्रह्मांड की परिक्रमा करने, लेकिन गणेश जी वहीं खड़े थे। वे आगे बढ़े, अपने दोनों हाथ जोड़े और अपने माता-पिता की परिक्रमा करने लगे। जब कार्तिकेय पृथ्वी का चक्कर लगाकर वापस लौटे और गणेश को अपने सामने पाया तो वह हैरान हो गए। उन्हें अपनी आंखों पर विश्वास नहीं हो रहा था कि कैसे गणेश उनसे पहले दौड़ का समापन कर सकते हैं।

गणेश जी ने समझाया

बाद में प्रभु गणेश से जब पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उनका संसार तो स्वयं उनकी माता हैं, इसलिए उन्हें ज्ञान प्राप्ति के लिए विश्व का चक्कर लगाने की आवश्यकता नहीं है। यह कथा हमें परिक्रमा करने का महत्व समझाती है, लेकिन महत्व के साथ किस देवी-देवता की कितनी बार परिक्रमा की जाए यह भी जानना अति आवश्यक है।

परिक्रमा के नियम

जिस प्रकार से हिन्दू धर्म में हर धार्मिक कार्य एक सम्पूर्ण विधि-विधान से युक्त होता है, ठीक इसी प्रकार से परिक्रमा करने के लिए भी नियम बनाए गए हैं। परिक्रमा किस तरह से की जानी चाहिए, कितनी बार की जाए यह सब जानना जरूरी है। तभी आपके द्वारा की गई परिक्रमा फलित सिद्ध होगी।

किसकी कितनी बार की जानी चाहिए परिक्रमा

यहां हम आपको केवल देवी-देवता की परिक्रमा कितनी बार की जानी चाहिए, इसकी जानकारी देंगे। यदि आप श्रीकृष्ण की मूर्ति की परिक्रमा कर रहे हैं तो इसे तीन बार करें। तभी फल की प्राप्ति होती है।

शक्ति का रूप

आदि शक्ति के किसी भी स्वरूप की, मां दुर्गा, मां लक्ष्मी, मां सरस्वती, मां पार्वती, इत्यादि किसी भी रूप की परिक्रमा केवल एक ही बार की जानी चाहिए।

भगवान विष्णु

इसी तरह से भगवान विष्णु एवं उनके सभी अवतारों की चार परिक्रमा करनी चाहिए। श्रीगणेशजी और हनुमानजी की तीन परिक्रमा करने का विधान है। शिवजी की आधी परिक्रमा करनी चाहिए, क्योंकि शिवजी के अभिषेक की धारा को लांघना अशुभ माना जाता है। शायद यह बात आप पहले से जानते ना हों, इसलिए भविष्य में ध्यान रखिएगा।

ये गलतियां ना करें

परिक्रमा कितनी बार करें यह तो आपने जान लिया, लेकिन परिक्रमा करते समय कुछ बातों का विशेष ध्यान भी रखें। क्योंकि इस दौरान की गई गलतियां आपकी परिक्रमा को बेकार कर सकती हैं। परिक्रमा करने के आपके उद्देश्य को निष्फल कर सकती हैं।

मंत्रों का जप कर सकते हैं

आप जिस भी देवी-देवता की परिक्रमा कर रहे हों, उनके मंत्रों का जप करना चाहिए। इससे आपको अधिक लाभ मिलेगा। भगवान की परिक्रमा करते समय मन में बुराई, क्रोध, तनाव जैसे भाव नहीं होना चाहिए। परिक्रमा स्वयं आपका मन शांत जरूर करती है, लेकिन उससे पहले भी आपको खुद को शांत करना होगा।

जान लें नियम

एक बात का विशेष ध्यान रखें, परिक्रमा हमेशा नंगे पैर ही करें। परिक्रमा शास्त्रों के अनुसार एक पवित्र कार्य है, इसलिए पैरों में चप्पल पहनकर उसे अशुद्ध नहीं किया जाना चाहिए।

शांत मन से परिक्रमा करें

एक और बात… परिक्रमा करते समय बातें नहीं करना चाहिए। शांत मन से परिक्रमा करें। परिक्रमा करते समय तुलसी, रुद्राक्ष आदि की माला पहनेंगे तो बहुत शुभ रहता है।

गीले वस्त्रों के साथ परिक्रमा

शायद आपने कभी गौर किया हो कि परिक्रमा करने से पहले लोग स्नान करते हैं, वस्त्रों को पहने हुए ही जल में डुबकी लगाते हैं और गीले वस्त्रों से ही परिक्रमा करते हैं। दरअसल शरीर को गीला करके परिक्रमा करना शुभ माना गया है, और एक बार बदन गीला करने से जल्द ही सूख जाता है। इसलिए वस्त्र ही गीले कर लिए जाते हैं।

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

किस देवी-देवता की कितनी बार करें परिक्रमा, ताकि मिले मनोवांछित फल-1

भगवान की भक्ति

किसी से यदि पूछें कि वे भगवान को किस प्रकार से याद करते हैं, तो भिन्न-भिन्न प्रकार के उत्तर प्राप्त होते हैं। कोई कहता है कि प्रभु के नाम का जप करने से उन्हें याद किया जाता है तो कोई कहता है कि रागमयी अंदाज़ से भजन के माध्यम से उन्हें याद किया जाता है। यह भजन हमें ईश्वर से जोड़ते हैं, ऐसा मानते हैं लोग। लेकिन वहीं कुछ लोगों ने प्रभु की आराधना करने के विभिन्न तरीकों में कुछ छोटे-छोटे तरीके भी जोड़ दिए हैं, जिनका अपना ही एक खास अर्थ एवं महत्व है।

परिक्रमा है एक माध्यम

उदाहरण के लिए धार्मिक स्थलों पर भक्तों द्वारा की जा रही परिक्रमा की ही बात कर लीजिए। मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा या किसी भी अन्य धार्मिक स्थल पर आपने लोगों को उस पवित्र स्थल की, वहं मौजूद भगवान की मूरत की या फिर किसी भी ऐसी चीज़ के आसपास चक्कर लगाते हुए देखा होगा जिसकी जनमानस में काफी मान्यता है।

क्या है मान्यता

लोग कहते हैं कि परिक्रमा करनी जरूरी है, लेकिन क्या कभी आपने जाना है क्यों? परिक्रमा, जिसे संस्कृत में प्रदक्षिणा कहा जाता है, इसे प्रभु की उपासना करने का माध्यम माना गया है। सनातन धर्म के महत्वपूर्ण वैदिक ग्रंथ ऋग्वेद से हमें प्रदक्षिणा के बारे में जानकारी मिलती है।

ऋग्वेद में क्या लिखा है?

ऋग्वेद के अनुसार प्रदक्षिणा शब्द को दो भागों (प्रा + दक्षिणा) में विभाजित किया गया है। इस शब्द में मौजूद प्रा से तात्पर्य है आगे बढ़ना और दक्षिणा मतलब चार दिशाओं में से एक दक्षिण की दिशा। यानी कि ऋग्वेद के अनुसार परिक्रमा का अर्थ है दक्षिण दिशा की ओर बढ़ते हुए देवी-देवता की उपासना करना। इस परिक्रमा के दौरान प्रभु हमारे दाईं ओर गर्भ गृह में विराजमान होते हैं। लेकिन यहां महत्वपूर्ण सवाल यह उठता है कि प्रदक्षिणा को दक्षिण दिशा में ही करने का नियम क्यों बनाया गया है?

दक्षिण दिशा में हो परिक्रमा

मान्यता है कि परिक्रमा हमेशा घड़ी की सुई की दिशा में ही की जाती है तभी हम दक्षिण दिशा की ओर आगे बढ़ते हैं। यहां पर घड़ी की सूई की दिशा में परिक्रमा करने का भी महत्व मौजूद है। हिन्दू धर्म की मान्यताओं के आधार पर ईश्वर हमेशा मध्य में उपस्थित होते हैं। यह स्थान प्रभु के केंद्रित रहने का अनुभव प्रदान करता है।

मध्य में भगवान

यह बीच का स्थान हमेशा एक ही रहता है और यदि हम इसी स्थान से गोलाकार दिशा में चलें तो हमारा और भगवान के बीच का अंतर एक ही रहता है। यह फ़ासला ना बढ़ता है और ना ही घटता है। इससे मनुष्य को ईश्वर से दूर होने का भी आभास नहीं होता और उसमें यह भावना बनी रहती है कि प्रभु उसके आसपास ही हैं।

परिक्रमा करने का लाभ

यदि आप परिक्रमा करने के लाभ जानेंगे तो वाकई खुश हो जाएंगे। क्योंकि परिक्रमा तो भले ही आप करते होंगे, लेकिन शायद ही इससे मिलने वाले आध्यात्मिक एवं शारीरिक फायदों को जानते होंगे। जी हां… परिक्रमा करने से हमारी सेहत को भी लाभ मिलता है।

ऊर्जा मिलती है

यूं तो हम मानते ही हैं कि प्रत्येक धार्मिक स्थल का वातावरण काफी सुखद होता है, लेकिन इसे हम मात्र श्रद्धा का नाम देते हैं। किंतु वैज्ञानिकों ने इस बात को काफी विस्तार से समझा एवं समझाया भी है। उनके अनुसार एक धार्मिक स्थल अपने भीतर कुछ ऊर्जा से लैस होता है, यह ऊर्जा मंत्रों एवं धार्मिक उपदेशों के उच्चारण से पैदा होती है। यही कारण है कि किसी भी धार्मिक स्थल पर जाकर मानसिक शांति मिलती है।

सकारात्मक ऊर्जा की प्राप्ति

परिक्रमा से मिलने वाला फायदा भी इसी तथ्य से जुड़ा है। जो भी व्यक्ति किसी धार्मिक स्थान की परिक्रमा करता है, उसे वहां मौजूद सकारात्मक ऊर्जा की प्राप्ति होती है। यह ऊर्जा हमें जीवन में आगे बढ़ने की शक्ति प्रदान करती है। इस तरह ना केवल आध्यात्मिक वरन् मनुष्य के शरीर को भी वैज्ञानिक रूप से लाभ देती है परिक्रमा।

परिक्रमा का इतिहास

यदि परिक्रमा का इतिहास जाना जाए तो सबसे पहली परिक्रमा शायद गणेश जी द्वारा अपने माता-पिता, माता पार्वती एवं भगवान शिव की गयी थी। पुराणों में उल्लिखित इस कथा के अनुसार एक बार माता पार्वती ने अपने दोनों पुत्रों कार्तिकेय तथा गणेश की परीक्षा लेने का सोचा। उनसे कहा कि जो पूरी दुनिया का चक्कर लगाकर सबसे पहले कैलाश पर्वत वापस लौटेगा, वही उनकी नजर में सर्वश्रेष्ठ कहलाएगा।

Om Namah Shivay

***Write ” Om Namah Shivay ” if you ask for God’s blessing on your life today. Please Like, Tag and Share to bless others!

http://www.vedic-astrology.co.in/

 

Previous Older Entries

%d bloggers like this: